करता है उन्मुक्त हास मन, मेरी श्रद्धा ही मेरी आस।। बनकर जीवन एक मृदु पवन, दे जाये मधु आभास।।मेरा आस -पुंज प्रज्वलित, बनकर तम का दृढ़ सहारा।। यह तो प्रेरणा जीवन की, है जीवन का मधुर किनारा।।




हृदय


Wednesday, 08 July 2020 06:37:01
Manju Thapa

विद्रोही है ये चितचोर हृदय,


         सुलभ आकांक्षा से पुलक जाता।

उठता, गिरता, रूठता,टूटता,

          जाने कैसे फिर भी संभल जाता।।

Read More


समझ


Monday, 06 July 2020 07:32:05
Manju Thapa

क्यों जाऊँ मैं फिर वही पात्र बन

                 उन बिखरे उलझे पन्नों के बीच।
छुपता,दिखता,बिखरता,संवरता
                दिखूं,कभी लूँ आँखें  सबसे मींच।
रुष्

Read More


कैसा बचपन

Monday, 06 July 2020 07:23:58
Manju Thapa

कैसा बचपन,जो तंग गलियों में

सिसकता सा गुज़रता है।
कैसा बचपन,जो कई प्रहर
खाने को तरसता है।
कैसा बचपन,जिस पर
झिड़की का व्यवहार बरसता है
कैसा बचपन,खिलखिलाता नहीं,
आँसू की धार धरता है।
कैसा बचपन, कुछ रुपयों पर
Read More


व्यथा


Saturday, 04 July 2020 09:18:25
Manju Thapa

पिया इस झीने से मौसम में,

जब बूँदों के तार उलझते हैं।
जब शांत मलय समीर सहारे 
धीमे दिन और रैन गुज़रते हैं।
तब भी ये क्लांत निष्ठुर हृदय
क्यों रह जाता है अनमना सा।
इसमें पल पल उद्वेग् की लहरें 
Read More


 नारी


Friday, 26 June 2020 05:04:56
Manju Thapa

बीती हुई कहानी की,

एक विशेष पात्र हो तुम।
उलझी हुई पहेली की,
कोई कड़ी मात्र हो तुम।
इसीलिए तुम्हारे बिना,
प्रज्ञा स्थिर हो जाती है।
जागी हुई भाग्य रेखा,
पल भर में सो जाती है।
फिर भी तुम स्वयं को, 

Read More

Search By: Subject Content


Most Recent