करता है उन्मुक्त हास मन, मेरी श्रद्धा ही मेरी आस।। बनकर जीवन एक मृदु पवन, दे जाये मधु आभास।।मेरा आस -पुंज प्रज्वलित, बनकर तम का दृढ़ सहारा।। यह तो प्रेरणा जीवन की, है जीवन का मधुर किनारा।।

उम्मीद

कल खुशियाँ बिखरेंगी,इसी उम्मीद पर टिकी है नज़र।
देखती हूँ एकटक घड़ी की सुई को घूमती इधर उधर।।

चलना छोड़ दिया, राह भी अपनी और मंज़िल का पता है,
जब मेहनत की है तो मिलेगा फल, भाग्य का  कैसा डर।।

मैं नहीं समझती कि लोग हमेशा सहारा देते रहेंगे, अपनाएंगे मुझे,
ऐसा होता तो सपने सजते ही नहीं और आँखों से छिन जाता प्रहर।

कुछ उलझने और विचार बेबस करते,रोकते मुझे आकर सामने,
धुँधला लगता क्षण भर को सब फिर सामने दिख जाती अपनी डगर।

मुस्काकर कहती सुबह-शाम तू रहना सदा हर हाल में एक सी,
हामी भर देती हूँ मैं आगे बढ़ने के उल्लास में भरकर।











About author
Generic placeholder image
डॉ. मंजू थापा

स्वतंत्र रचनाकार,कई पत्र पत्रिकाओं में लेख और कविताएं प्रकाशित। निरंतर रचनात्मक लेखन की राह में समर्पित।। 

ब्लाॅग का उद्देश्य रचनात्मक चिंतन एवं मनोभावों को नई दिशा एवं प्रेरणा मिले,जिससे लेखन प्रभावी और सारगर्भित हो।।